बर्ड फ्लू के लक्षण (Bird Flu Symptoms) और इसका इलाज क्या है?

0
85
बर्ड फ्लू के लक्षण और इलाज
बर्ड फ्लू के लक्षण क्या-क्या होते हैं?

Bird Flu Symptoms (बर्ड फ्लू के लक्षण) and Treatment: बर्ड फ्लू की बीमारी एवियन इनफ्लुएंजा वायरस H5N1 (avian influenza virus) की वजह से होता है। यह वायरस वैसे तो पक्षियों को अपना शिकार बनाता है लेकिन कभी-कभी इंसान भी इससे संक्रमित हो जाते हैं।

बर्ड फ्लू का इन्फेक्शन ज्यादातर मुर्गी, मोर और बत्तख जैसे पक्षियों में होता है और यह तेजी से फैलता है। बर्ड फ्लू को उत्पन्न करने वाले इनफ्लुएंजा वायरस इतना खतरनाक होता है कि इससे इंसान और पक्षियों की मौत भी हो सकती है।

बर्ड फ्लू वायरस का नाम – Bird Flu Virus Name

बर्ड फ्लू की बीमारी एवियन इन्फ्लूएंजा वायरस (avian influenza virus) H5N1 की वजह से होती है। यही कारण है कि बर्ड फ्लू को एवियन इन्फ्लूएंजा वायरस भी कहते हैं। अभी तक H5N1 और H7N1 को बर्ड फ्लू का ऐसा प्रकार माना जाता था जो इंसानों को भी संक्रमित कर सकता था। लेकिन अब इस लिस्ट में एवियन इन्फ्लूएंजा वायरस H8N8 (avian influenza virus) भी शामिल हो गया है।

बर्ड फ्लू से संक्रमित पक्षियों के संपर्क में आने से जानवर और इंसान भी संक्रमित हो जाता है। बर्ड फ्लू मुर्गियों में काफी तेजी से फैलता है। बर्ड फ्लू से संक्रमित पक्षी यदि मृत हो और उसका सेवन किया जाए तो यह वायरस (avian influenza virus) इंसानों के शरीर में भी पहुंच जाता है और इंसान को भी संक्रमित कर देता है। यह वायरस संक्रमित पक्षी के मल और लाह में लगभग 10 दिनों तक जिंदा रह सकता है।

बर्ड फ्लू के लक्षण – Bird Flu Symptoms

बर्ड फ्लू के लक्षण (Bird Flu Symptoms) भी सामान्य फ्लू जैसे ही होते हैं। इसमें सांस लेने में समस्या और हर वक्त उल्टी होने का एहसास जैसे लक्षण होते हैं। अन्य लक्षणों में बुखार, हमेशा नाक बहना, सर में दर्द होना, गले में सूजन होना, मांसपेशियों में दर्द होना, दस्त होना, हर वक्त उल्टी जैसा महसूस होना, पेट के निचले हिस्से में दर्द रहना, सांस लेने में समस्या और निमोनिया जैसे लक्षण होते हैं।

ऊपर बताए गए बर्ड फ्लू के लक्षण (Bird Flu Symptoms) में से कोई भी लक्षण आपके अंदर दिख रहा है और उस समय बर्ड फ्लू का बीमारी तेजी से फैल रहा हो तो आपको तुरंत ही डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। बर्ड फ्लू का बीमारी यदि ज्यादा बढ़ जाए तो यह बीमारी जानलेवा भी साबित हो सकता है।

नोट -यह केवल एक सामान्य जानकारी है। विस्तृत और स्टीक जानकारी के लिए हमेशा डॉक्टर की सलाह अवश्य लें।