अटल बिहारी वाजपेयी की पत्नी का नाम क्या था? जानिये वास्तविक सच!

0
5981
अटल बिहारी वाजपेयी पत्नी
अटल बिहारी वाजपेयी की पत्नी का नाम

भारतीय राजनीति में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का नाम हमेशा स्वर्ण अक्षरों में लिखा रहेगा। वे तीन बार भारत के प्रधानमंत्री रहे। वह देश में प्रधानमंत्री जैसे मुकाम पाले पहले गैर कांग्रेसी नेता थे। अटल बिहारी वाजपेयी जी का निधन 16 अगस्त को शाम 5 बजकर 5 मिनट पर हुआ था। उन्होंने राजनीति के साथ अपने निजी जीवन के बारे में खुलकर बात की है। लेकिन फिर भी एक सवाल है कि अटल बिहारी वाजपेयी की पत्नी का क्या नाम है। कौन थी अटल बिहारी वाजपेयी की पत्नी?

संसद में विपक्ष के हमलों की बीच उन्होंने कहा था कि मैं अविवाहित जरूर हूं, लेकिन कुंवारा नहीं। जब उनसे उनकी शादी के बारे में पूछा जाता तो वो मुस्कुरा देते। वे शांति और संयमित होकर जवाब देते, व्यस्तता के कारण ऐसा नहीं हो पाया। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सहसंस्थापकों में से एक थे।

अटल बिहारी वाजपेयी का जन्म मध्यप्रदेश के ग्वालियर में 25 दिसंबर 1924 को हुआ था। उन्होंने विक्टोरिया कॉलेज से पढ़ाई पूरी की थी। कॉलेज के दिनों से ही उनकी एक महिला मित्र थीं राजकुमारी कौल, जो अपने अंतिम समय तक अटल बिहारी वाजपेयी के साथ रहीं। दोनों ग्वालियर के विक्टोरिया कॉलेज (अब लक्ष्मीबाई कॉलेज) में एक साथ पढ़ते थे।

अटल बिहारी वाजपेयी की पत्नी
राजकुमारी कौल और दत्तक पुत्री नमिता के साथ अटल बिहारी वाजपेयी

ऐसा कहा जाता है कि अपनी महिला मित्र राजकुमारी कौल से अटल बिहारी वाजपेयी प्यार करते थे। उन्होंने कॉलेज के दिनों में एक चिट्ठी लिखकर अपने प्यार का इजहार भी किया था लेकिन जिस चिट्ठी में कौल ने अपना जवाब लिखकर दिया था, वो कभी वाजपेयी को मिला ही नहीं।

दोनों का जीवन आगे बढ़ा और अटल जी राजनीति में सक्रिय हो गए और राजकुमारी कौल के पिता ने उनकी शादी कॉलेज प्रोफेसर ब्रिज नारायण कौल से कर दी। शादी के बाद राजकुमारी कौल दिल्ली यूनिवर्सिटी के रामजस कॉलेज कैम्पस में रहने लगी। एक इंटरव्यू के कौल ने कहा था कि मैंने और अटल बिहारी वाजपेयी ने कभी इस बात की जरूरत महसूस नहीं की कि इस रिश्ते के बारे में कोई सफाई दी जाए।

कुलदीप नैय्यर ने टेलीग्राफ में इस बात का जिक्र किया है कि राजकुमारी कौल अटल बिहारी वाजपेयी की सबकुछ थीं। शादी के बाद भी वह हमेशा उनके साथ रहती थीं। दक्षिण भारत के पत्रकार गिरीश निकम जब अटल बिहारी वाजपेयी के घर पर फोन करते थे तो कौल ही फोन उठाती थीं और कहती थीं – मैं मिसेज कौल बोल रही हूं।

बाद में अटल बिहारी वाजपेयी जब प्रधानमंत्री बने तो उस वक्त भी कौल परिवार उनके साथ ही रहता था। राजकुमारी कौल बेटी नमिता और दामाद रंजन भट्टाचार्य के साथ सरकारी निवास में वाजपेयी के साथ ही रहती थीं। नमिता को अटल बिहारी वाजपेयी ने दत्तक पुत्री का दर्जा दिया था। अटल बिहारी वाजपेयी के निधन के बाद उनकी पुत्री नमिता ने ही उन्हें मुखाग्नि दी थी। Read More at: इंडिया हन्ट