सरसों तेल का दीया जलाने के लाभ – घर में सरसों तेल का दीया क्यों नहीं जलाना चाहिए?

0
1102
सरसों तेल का दीया जलाने के लाभ
सरसों तेल का दीया जलाने के लाभ

भगवान के सामने दीया जलाने का विशेष महत्व होता है। घर में दीया जलाने से आसपास का अंधेरा हटता है और जीवन में सुख, समृद्धि और धनलाभ होता है। शास्त्रों के अनुसार, सही तरीके से किया गया दीपदान कभी भी बेकार नहीं जाता है। दीपक जलाने से जीवन का अंधेरा खत्म होता है। हालांकि घर में सरसों तेल का दीया जलाने से मना किया जाता है।

दीपक जलाने के दौरान बरतें ये सावधानियाँ

दीपक को जलाते समय कभी भी अपना सर खुला न रखें। हमेशा पूर्व या पश्चिम दिशा की ओर मुह करके दीपक जलाएं। कभी भी घर में सरसों का दीपक नहीं जलाना चाहिए। घर में हमेशा तिल के तेल का दीपक या घी का दीपक जलाना चाहिए। दीपक को कभी भी मुह से फूंककर नहीं बुझाना चाहिए। अगर बुझाना हो तो आंचल या कपड़े से हवा करके बुझाना चाहिए।

दीपक जलाने के फायदे क्या-क्या होते हैं?

जब भी घर में दीपक जलाएं तो इस बात का ध्यान रखें कि दीपक की लौ पूर्व या उत्तर दिशा में हो। इससे घर में धन का बरकत होती है। कहा जाता है कि ईश्वर को घी का दीपक अर्पण करने से मनोकामना पूर्ण होती है।

घी का दीपक जलाने से इससे निकलने वाली सात्विक ऊर्जा वातावरण में कुछ घंटों तक बनी रहती है। लेकिन कुछ ऐसे अवसर भी होते हैं जब घर में सरसों तेल का दीपक जलाया जाता है। दिपावली पर्व पर घर में सरसों के तेल का दीया जलाया जाता है।

सरसों तेल को शनि से संबंधित माना जाता है। इसलिए सरसों का तेल का दीया जलाने से शनिदेव प्रसन्न होते हैं। शनिवार के दिन शनि मंदिर में सरसों के तेल का दीपक जलाना काफी शुभ माना गया है। शत्रुओं को पराजित करने के लिए सूर्य पूजा में सरसों के तेल का दीप जलाया जाता है। इससे साथ ही जीवन में सौभाग्य वृद्धि के लिए शनिदेव के सामने सरसों तेल का दीया जलाना चाहिए।