सरसों, तिल और चमेली तेल के टोटके दिलाएंगे खुशहाली, बस करें यह काम

0
1115
सरसों, तिल और चमेली तेल के टोटके
सरसों, तिल और चमेली तेल के टोटके

तेल का हमारे जीवन में बहुत ही अहम योगदान है। तेल के बिना किचन में सब्जी और अन्य पकवान बनाने की बात ही छोड़ दीजिए। वैसे धार्मिक दृष्टि से तेल का संबंध शनिदेव से माना गया है। धार्मिक और दैनिक रूप से इतर तेल के टोटके भी होते हैं। सरसों तेल के टोटके, तिल तेल के टोटके, चमेली तेल के टोटके जैसे कई उपाय किये जाते हैं ताकि जीवन से दुर्भाग्य का नाश हो सके।

सरसों तेल के टोटके

शनिवार के दिन कटोरी में सरसों का तेल लें। अब तेल वाले कटोरी में अपनी छाया देखकर उसे शाम में शनि मंदिर में रख दें और घर आ जाएं। इस उपाय से शनिदेव की कृपा हमेशा आपके ऊपर बनी रहेगी। इसके साथ ही आप शनिदोष से मुक्त रहेंगे।

तिल तेल के टोटके

सरसों तेल की तरह ही तिल तेल के टोटके भी होते हैं। 41 दिनों तक लगातार तिल तेल का दीपक पीपल पेड़ के नीचे जलाएं। इस उपाय करने से जीवन से कई असाध्य रोगों से मुक्ति मिलती है। इसके साथ ही कई साधनाओं और सिद्धियों को प्राप्त करने के लिए भी तिल तेल के टोटके किए जाते हैं। साधनाओं और सिद्धियों को प्राप्त करने के लिए पीपल पेड़ की जड़ में दीपक जलाना चाहिए, ऐसा विधान है।

चमेली तेल के टोटके

सरसों और तिल तेल के टोटके के अलावा चमेली तेल के टोटके भी किए जाते हैं। प्रत्येक मंगलवार और शनिवार को सिंदूर और चमेली का तेल हनुमान जी को अर्पण करना चाहिए। इसके बाद विधि विधान से हनुमान जी की पूजा करनी चाहिए।

हालांकि इस क्रिया में हनुमान जी को फूल माला अर्पित करना चाहिए लेकिन चमेली तेल का दीपक नहीं जलाना चाहिए। चमेली का तेल हनुमान जी के शरीर पर लगाना शुभ माना जाता है। इस प्रकार से हनुमान जी की पूजा करने से सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती है, ऐसी मान्यता है।

दुर्भाग्य से पीछा छुड़ाने के उपाय

शनिवार को सरसों तेल में गेहूं के आटे और पुराने गुड़ से सात पुए बनाएं। सात मदार के फूल, सिंदूर, सरसों तेल वाला आटे का दीपक, आदि सामान को पत्तल पर रखकर शनिवार की रात किसी चौराहे अथवा सुनसान स्थान पर रख दें। इसके बाद बोलें – ‘हे मेरे दुर्भाग्य, मैं तुझे यहीं छोड़े जा रहा हूं, कृपा करके अब मेरा पीछा कभी ना करना।’ फिर वहां निकल जाएं और पीछे मुड़कर न देखें।